Spread the love

धरातल पर रहकर !
✍️ २२२१

विनोदकुमार महाजन

*********************

हवा में उडेंगे तो
निश्चित रूप से
एक दिन जमीन
पर गिरेंगे !
इसिलिए धरातल पर
रहकर ही काम
करना पडेगा !

आँखों पर धूंद चढेगी
तो धूंद उतरते ही
नशा निकल जायेगी !
इसिलिए निश्चल होकर
नजर साँफ रखकर ही
मंजिल की ओर
बढना होगा !

बडप्पन के भ्रम में
रहकर आगे बढेंगे
तो एक दिन पाँव
फिसलकर गिर पडेंगे !
इसिलिए छोटासा, साधारण,
अहंकारशून्य बनके रहेंगे
तो जल्दी ही मंजिल की
ओर बढकर रहेंगे !

हरी ओम्

🙏🙏🙏

Translate »
error: Content is protected !!