Sat. Jul 13th, 2024

चैतन्यमय समाज के लिए

Spread the love

जिस देश में भगवतगीता
जैसा तेजस्वी धर्मग्रंथ है
और भगवान श्रीकृष्ण जैसी
तेज:पूज और अष्टपैलू
देवता है उसी देश की इतनी
भयंकर दुर्दशा क्यों ? यहाँ का
समाज तेजोहिन ,गलितगात्र
क्यों ? और कैसे ??
चलो उठो , हर एक का तेज
जगाते है.!!

विनोदकुमार महाजन

Related Post

Translate »
error: Content is protected !!