Sat. Jul 13th, 2024

” सैतानों ” की सहायता ???

Spread the love

क्यों ? ” सैतानों ” की सहायता कर रहे हो ???
✍️२१५०
——————————-
” तुम्हारे ” बीच रहेंगे,
बिजनेस – कारोबार करेंगे !
तुम्हारा ही पैसा हडपेंगे !
और तुम्हे ही ” समाप्त ” करने का महाभयंकर षड्यंत्र…
दिनरात करेंगे !

अजब गजब की प्रजाती है ये तो !
” आधा ” अधूरे ज्ञान से है आज
पूरी दुनिया हैरान !

विश्वासघात,बेरहमी, बर्बरता का
महाभयानक क्रौर्य !

” तुम्हारे ही बीच रहेंगें…तुम्हारा ही धन,जायदाद हडपेंगे !
और तुम्हारा ही नामोनिशान मिटा देंगे !
तुम्हें ही काटने का,नेस्तनाबूद करने का…खेल खेलते रहेंगे ! ”

पहचानो कौन ???

और तुम ???
मूर्ख, बेवकूफ…” उनकी ” ही
झोलीयाँ दिनरात भरते रहेंगे !
तो…?
ईश्वर भी ” तुम्हें ” कैसे बचायेगा ?

नादान बनकर दिनरात फिरते है मारे मारे….
और ” विनाशकारी सैतानों की ”
झोलीयाँ भरते रहते है…
” भागनेवाले असहाय बेचारे ! ”
—————————–
विनोदकुमार महाजन

Related Post

Translate »
error: Content is protected !!