Spread the love

बागेश्वर धाम सरकार,
और हिंदुराष्ट्र निर्माण !!
✍️ २२३१

विनोदकुमार महाजन

🕉🚩🕉🚩🕉🚩

बागेश्वर धाम के श्री.धिरेंद्र शास्त्रीजी सचमुच में इतिहास बना रहे है, इसमें कोई भी संदेह नहीं है !

इसी विषय पर थोड़ा विस्तृत विवेचन करते है !

सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न यह है की,
बागेश्वर धाम के धिरेंद्र शास्त्रीजी, इतनी कम उमर में इतने लोकप्रिय कैसे हो गए ? इतनी उंचाईयों तक कैसे पहुंच गए ?

पिछले जन्म के पुण्यप्रभाव से और प्रारब्ध गती के अनुसार, इतनी कम उमर में ही,उनपर सद्गुरु जी की असीम कृपा हो गई ! और इसी कारण ,उनको अपरीमीत ईश्वरी कृपा भी प्राप्त हो गई ! इतनी कम उमर में ही ,उनको अनेक सिध्दियां भी प्राप्त हो गई !
उनके दादाजी का भी संपूर्ण पुण्यप्रभाव, धिरेंद्र जी के पिछे खडा हो गया !
और दादाजी के कारण ही,उन्हे जागृत बागेश्वर हनुमानजी की कृपा भी प्राप्त हो गई !
तंत्र मार्गों में ,धिरेंद्र जी ने,अनेक उंचाईयों को हासिल किया है , परिणाम स्वरूप, इतना बड़ा जनसागर और जनसागर की संपूर्ण शक्तीयों को,अपने पिछे खडे करने में यशस्वी होते हुए दिखाई देते है !

आजतक के इतिहास में, सचमुच में, यह एक रिकार्ड है !
अनेक बडे बडे सिध्दपुरूष, महापुरुष, सिध्दयोगीयों को,समाज जागृती अभियान के लिए, व्यापक जनसमर्थन नहीं प्राप्त हुवा, इतना बड़ा जनसमर्थन, उनको प्राप्त हो रहा है ? यह एक अनुत्तरित प्रश्न है !

सोशल मीडिया पर प्रभाव, जनमानस पर प्रभाव, कार्य को आगे बढाने का अचूक अंदाज, योग्य रणनीति, वाग् पटुता, सामाजिक अभ्यास, धीरोदात्तता, गांभीर्य,ऐसे अनेक कारणों से, धिरेंद्र जी की लोकप्रियता आज,सातवें आसमान पर है !

और हिंदुहितों के लिए, हिंदुजागरण के लिए, समाज की मरी हुई चेतना जगाने के लिए भी, यह अभियान अत्यंत महत्वपूर्ण साबित होता जा रहा है !

हिंदुराष्ट्र निर्माण करने के लिए,
लोगों में जो जोश और अपेक्षित परिणामों के लिए, लोगों का उत्साह जागृत करना था,उसीमें तो धिरेंद्र जी सौ प्रतिशत यशस्वी हो ही गये है !

इतने भयंकर षड्यंत्र कारी विरोधी, विरोधियों के अनेक प्रकार के जाल,सभी चक्रव्यूहों को,अचूक भेदकर, सभी का अचूक इलाज करके,धिरेंद्र जी अपने महत्वपूर्ण उद्दीष्टों की ओर,तेज गती से आगे बढ ही रहे है !

इससे यह सिध्द होता है की,प्रत्यक्ष हनुमानजी उनको संपूर्ण रूप से सहयोग कर ही रहे है ! और इसमें कोई संदेह भी नहीं है !

कार्य ईश्वरी है ! और कार्य वायुगती से आगे भी बढ रहा है !

अब थोडीशी चर्चा करते है,
लोगों का जोश और उत्साह के बारें में !

मैंने मेरे अनेक लेखों में, यही लिखा था की,
हिंदुराष्ट्र निर्माण के लिए, लोगों में जोश और उत्साह अनेक मार्गों द्वारा, निर्माण करना, अत्यावश्यक है !
चेतना जागृती अभियान !
जिसमें धिरेंद्र जी,सौ प्रतिशत यशस्वी तो हो ही गये है !

विशाल जनसागर यही दर्शाता है !

अभी थोडीशी चर्चा करते है,लोगों का यह जोश और उत्साह, कार्य सफलता तक ,कायम कैसे रहेगा ?

हमारे लोगों को एक आदत है !
जोश और उत्साह में आ जाना !
और आखिरी क्षण में बाजी ही पलट देना !

मतलब ?
मतलब, यह है की,
पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में, मोदिजी ने वहाँ के लोगों का, जोश और उत्साह तो जागृत किया था ! बढाया भी था !
फिर भी ?
परिणाम क्या हो गये ?
ममता बैनर्जी जीत गई !
आश्चर्य है ना , लोगों की मानसिकता का ?
बाजपेयी जी ने लोगों का जोश और उत्साह अपने जागृत भाषणों द्वारा, जिवीत तो किया था ! परिणाम ?
बाजपेयी जी को,सदा के लिए, सत्ता से दूर हटना पडा !
दिल्ली नगर निगम चुनाव मे,भाजपा ने, लोगों का जोश और उत्साह तो बढाया था !
परिणाम ?
बिजेपी हार गई !
राजस्थान, छत्तीसगढ़ जैसे अनेक विधानसभा चुनावों में भी, भाजपा की व्यापक रणनीति भी…धाराशायी हो गई थी !

ऐसा क्यों ?
ऐसा क्यों होता है ?
समाज की मानसिकता ?
आज भी मैं, अपने ही समाज पर,साशंक हूं !

हिंदुत्व को सदा के लिए हटाने का और समाप्त करने का,गुप्त एजेंडा, कुछ पार्टीयों द्वारा, इस देश में चलाया गया ! बारबार यही एजेंडा चलाया भी जाता है !
आज भी !

और हमारे लोग ?
फिर उसी पार्टी को ही जिताते है !
आश्चर्य है ना ये तो ?
बहुत बडा आश्चर्य ?
खुद का सर्वनाश हमारे ही लोग, सदियों से, करते आ रहे है !
इसका इलाज क्या है ?

हिंदुराष्ट्र निर्माण, अखंड भारत और हिंदुमय विश्व की संकल्पना को अगर वास्तव में लाना है, और उसे कार्यान्वित करना है तो ?
सबसे पहले हमारे ही लोगों की मानसिकता देखनी चाहिए !
उसपर विस्तृत विवेचन, विश्लेषण होना चाहिए !

हिंदुत्व जागरण तो होगा !
मगर उस जागरूकता को,अंतिम परिणामों तक,कैसे ले जाना होगा ? इसपर भी चिंतन, मनन होना जरूरी है ! अत्यावश्यक भी है !

संपूर्ण विश्व को और विश्वमानव को अगर हिंदुत्व और ईश्वर निर्मित, सत्य सनातन को जोडना है तो ?
सनातन के प्रती सभी की मानसिकता, आदर्श वादी बनानी होगी !
विविध माध्यमों से और अनेक यशस्वी उपायों से, सनातन धर्म का, सत्य का प्रकाश, तेज गती से,संपूर्ण विश्व में, सूरज की तरह फैलाना होगा !

” विश्व – स्वधर्म – सूर्ये – पाहो !”

सनातन का प्रभाव बढाना होगा !

” दीपक और सूरज ! ”
का फर्क लोगों को, समझाना होगा !
इसीलिए आज की तरह, हिंदुत्व जागरण की तरह, लोगों का जोश और उत्साह बढाना पडेगा !
तभी हिंदुत्व भी बढेगा !
हिंदुराष्ट्र भी बनेगा !
अखंड भारत भी बनेगा !
और ?
हिंदुमय विश्व भी बनेगा !

विश्वव्यापक जनजागृति अभियान के लिए, कितने हिंदु तैयार है ?
कितने लोगों की मानसिकता सकारात्मक है ?
ऐसा दिनरात प्रयास करनेवालों के पिछे,कितने प्रतीशत लोग,
” निरंतर खडे रहने के लिए ” , तैयार है ???

यह तो समय ही बतायेगा !
क्योंकि, सबसे बड़ा समय ही होता है !

अगर हम सभी पुण्यात्माएं
केवल इसी कार्य के लिए ही,और इसे सफल बनाने के लिए ही
आये है तो ?
कौन रोकेगा हमें ?
कार्य सफल होकर रहेगा !
इसको…
एक प्रतिशत से सौ प्रतिशत में
कैसे बदलना है ?
यह तो आप सभी के हाथों में है !

मेरा – हम सभी का – सभी ईश्वर प्रेमीयों का,
” वैश्विक संगठन ”
बनाकर,
ईश्वरी वैश्विक अभियान को आगे बढाना है !

” सुर्योदय ! ”
हो चुका है !!
इसी सुर्योदय द्वारा,
सभी हिंदुओं का,
” भाग्योदय ! ”
भी करते है !
चेतना जागृती अभियान,
आगे बढाते है !

जय श्रीराम
हरी ओम्

🙏🕉🚩🕉🚩🙏

Translate »
error: Content is protected !!