Sat. Jul 13th, 2024
Spread the love

खुद की आत्मा बेचकर
दूसरों के सोने के
राजमहाल में कोई
कैसे रह सकता है ?

स्वाभीमानशून्य और
लाचार जीने से मृत्यु भी
बेहतर होती है

विनोदकुमार महाजन

Related Post

Translate »
error: Content is protected !!